मंगलवार, 1 मई 2012

बात अधूरी रह जाती है..

साभार अनिल कार्की जी के ब्लाग
अंधेरे में...... से 

अक्सर तुम से जब मिलती हूं
कुछ कहना था कुछ कहती हूं.
मुद्दे पर आते आते
हया सामने आ जाती है..
बात अधूरी रह जाती है...!!
तुमसे ये कहना था
वो सुनना था
सब कुछ
बिसरी तुम्हैं देख कर
डूब गई फ़िर प्रीत धुंध में
जाने कल फ़िर मिलो न मिलो..!
कुछ कहने को जब जी ने चाहा
तुम बोले अब मैं जाता हूं-
अवसर मिलते ही आता हूं..
ऐसे कितने वादे सहती हूं
सूनी सूनी मेरी रातें
मुझसे  तारे गिनवातीं हैं..!!
जब बात अधूरी रह जाती है...!!






कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं