शुक्रवार, 6 अप्रैल 2012

तमाम रात कटी तुमको गुनगुनाते हुए :श्रृद्धा जैन

1 टिप्पणी:

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं