शनिवार, 8 अक्तूबर 2011

न मिल मिल पाए तो मत रोना ये नेह रहेगा फ़िर उधार..!

 
  रिस रिस के छाजल रीत गई  तुम बात करो मैं गीत लिखूं
by Girish Mukul
रिस रिस के छाजल रीत गई
तुम बात करो मैं गीत लिखूं
*************************
कुछ अपनी कहो कुछ मेरी सुनो
कुछ ताने बाने अब तो बुनो
जो बीत गया वो सपना था-
जो आज़ सहज वो अपना है
तुम अलख निरंजित हो मुझमें
मन चाहे मैं तुम को भी दिखूं
तुम बात करो मैं गीत लिखूं
*************************
तुम गहराई सागर सी
भर दो प्रिय मेरी गागर भी
रिस रिस के छाजल रीत गई
संग साथ चलो दो जीत नई
इसके आगे कुछ कह न सकूं
तुम बात करो मैं गीत लिखूं
*************************
तुमको को होगा इंतज़ार
मन भीगे आऎ कब फ़ुहार..?
न मिल मिल पाए तो मत रोना
ये नेह रहेगा फ़िर उधार..!
मैं नेह मंत्र की माल जपूं
तुम बात करो मैं गीत लिखूं

5 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर और सार्थक रचना , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. तुम गहराई सागर सी
    भर दो प्रिय मेरी गागर भी
    रिस रिस के छाजल रीत गई
    संग साथ चलो दो जीत नई
    इसके आगे कुछ कह न सकूं
    तुम बात करो मैं गीत लिखूं...

    बहुत खूबसूरत रचना....

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं