बुधवार, 18 मई 2011

अबोले नयनों से !!

ब्लाग से साभार

तुमने अबोले नयनों से जो बोला
उस कहे को हमने –
आज़ रात चांद को तक तक के तोला.
देर तलक
दूर तलक सोचता रहा
शायद तुमने ये कहा ?
न तुमने वो कहा ?
जो भी
मन कहता है – तुमने कहा था !
“मुझे, तुमसे प्यार है !”
सच यही तो कहा था है न ?
अबोले नयनों से !!

3 टिप्‍पणियां:

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं