सोमवार, 28 मार्च 2011

चिंतन की सिगड़ी पे प्रीत का भगौना

साभार:प्रतिबिम्ब ब्लाग 
चिंतन की सिगड़ी पे प्रीत का भगौना
रख के फ़िर  भूल गई, लेटी जा बिछौना
************
पल में घट भर जाते, 
नयन नीर की गति से
हारतीं हैं किरनें अब -
आकुल मन की गति से.
चुनरी को चाबता, मन बनके  मृग-छौना ?
************
बिसर  गई जाते पल,
डिबिया भर  काज़ल था
सौतन के डर से मन -
आज़ मोरा व्याकुल सा
माथे प्रियतम के न तिल न डिठौना ? 
************
 पीर हिय की- हरियाई
तपती इस धूप में
असुंअन जल सींचूं मैं
बिरहन के रूप में..!
बंद नयन देखूं,प्रिय मुख सलौना !!

************

4 टिप्‍पणियां:

  1. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 29 -03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं