शनिवार, 11 सितंबर 2010

ये इश्क इश्क है

एक मुक़म्मल कव्वाली जो सूफ़ी दर्शन की झलक देती है

ईद कुछ यूं भी मनाई कई होगी

1 टिप्पणी:

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं