गुरुवार, 4 मार्च 2010

अदा जी की आवाज़ में सुनिए तेरी आँखों के सिवा

और सुनिए अदा जी के स्वरों में ये गीत तेरी आँखों के सिवा 

14 टिप्‍पणियां:

  1. माधुर्य का जादू
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. उतर गयी है अन्तर में यह मीठी आवाज सदा से !
    आभार प्रस्तुति के लिये !

    उत्तर देंहटाएं
  3. कई बार सुन चुकी हूँ यह गीत अदा जी की आवाज में ..हर बार पहले से अधिक मधुर लगी ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अदाजी की आवाज में ऐसे ही गाने सुनाते रहें, हम पर मेहरबानी होगी। बहुत ही दिलकश आवाज।

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह वाह बहुत अच्छा लगा। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  6. लता जी के बाद कौन, अब ये फ़िक्र करने की ज़रूरत नहीं है...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  7. manmohak...dil ko छ्oo lene vali aavaaz..ek maulik ''adaa'' hai is aavaaz me..ek kashish bhi hai. kaash.....

    उत्तर देंहटाएं

  8. यह क्या अदा जी,
    " तेरी आँखों के सिवा रक्खा क्या है ?"
    अजी, + 1.25 का चश्मा रखा है, जिसके बिना यह अँखियाँ कुछ भी नहीं !

    उत्तर देंहटाएं
  9. aap sabne itna mujhe samman diya sach mein nishabd hun..
    meri chhoti si koshish thi aapko acchi lagi ...hriday se aabhaari hun..

    उत्तर देंहटाएं
  10. अदा दीदी के क्या कहनें , इनकी आवाज तो जैसे ही कान में घुलती है बस तब पुछो मत , इनकी आवाज सच में इतनी मिठी है कि बार-बार सुनने को मन करता है , बहुत ही सुन्दर गाया आपने ।

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं