गुरुवार, 12 नवंबर 2009

तनेज़ा जी क्या करूं इस नोटिस का ?



देखिये  यहां  भाई राजीव जी की घर तोडू कारगुजारी की वज़ह से मेरी दाल पतली है .दो दिन से भूखा प्यासा  पत्नीव्रता (अवसर न मिलने की वज़ह से )  पुरुष दर दर की ठोकर खा रहा हूं. घटना देर रात 09/11 /09  नौ   बजके 9 मिनिट 9 सेकंड की है. देर रात सरकारी काम काज से फारिग होता मेरा शरीर घर में घुसा ही था कि आदतन मैंने मेल चैक की गरज से नेट ऑन किया और एकाध ब्लाग देखने की गरज से सबसे पहले वादे के मुताबिक राजीव जी के ब्लॉग पे पहुंच गया. अपना फोटो देख के दिल में क्विंटलों लड्डू फूटने लगे. 

बस फिर क्या था कि हमारी पीछे खड़ी एक अदद सतफेरी- बीवी श्रीमती  बिल्लोरे ने हमारी ख़बर लेनी शुरू कर दी . बोलीं:-"ये कल मुहीं कौन है.....?"
ख़ूबसूरत हसीन तारिका  का अपमान मुझे खला सो यकबयक मुंह से निकल पडा-"कलमुहीं...? अरे देखिये कितनी ख़ूबसूरत है ! आपसे..भी.....  !"
                                                            बस फिर क्या था हमारी श्रीमती जी ने हमारी वो गत बनाई कि हम लुटे पिटे जमानत जब्त कराए नेता से इधर उधर डोल रहे हैं.आपके सामने भाई राजीव तनेजा जी की वज़ह से हमको  जो दर्द की गठरी मिली है उसकी गांठें इस ब्लॉग पर खोल रहे हैं . मेरे  ब्लॉगर बंधुओ पिट जाए पति उसकी  ज़्यादा पत्नी दु:खी न होगी, पडोसन रूठ जाए बीवी को कोई कष्ट नहीं होगा, कोई औरत कितनी भी सुन्दर साडी पहन ले किसी भद्र पत्नी के मन में  कोई भी विचार न आएगा....किन्तु यदि रूठी पडोसन या पूर्व वर्णित साडी की कोई तारीफ़ करे अथवा  किसी दूसरी नारी की तारीफ हो तो कोई स्त्री कैसे और कब तक सहेगी. 
कल ही की बात है  इस  तस्वीर को  ध्यान से देखिये जी मुझे भा गई तो बस एक अदद गीत लिख कर इसी ब्लॉग पर छाप दिया था किन्तु अपनी पसंद वाली इस माडल को देख श्रीमती बिल्लोरे ने कहा था-'सुनते हो इसकी साडी उतनी सुन्दर नहीं जितनी मुझे पीहर से मिली थी .... पर तुम ऐसी ही दिला दो न.!'इस माडल का फोटो मेरी कविता के साथ  होना  मुझे बेहद महँगा पडा मित्रों इस घटना के ठीक दूसरे दिन  हमारी दुर्गति भाई राजीव जी की वज़ह से हुई .....! गत्यात्मक ज्योतिष वाली दीदी  ने बताया ही था कि ये दिन धनु राशि पे भारी पड़ेंगे सो अपने राम के साथ जो हो रहा है भगवान वो किसी भी अपने मित्र ब्लॉगर के साथ न हो हो तो उन ब्लागर्स के साथ हो जिनकी आदत है मुफ्त में -बिना टिप्पणी किये किसी का ब्लॉग चोरी चोरी बांच लेते हैं.. भाई अपने राम ने किसी का भी ब्लॉग के साथ  इत्ता दुर्व्यवहार नहीं किया. पर भाग्य चक्र है कि अपने राम को घरेलू हिंसा कानून के तहत एक नोटिस मिला बवालसे पूछा कि भाई मेरी जिन्दगी में अब कैसे पुराने दिन लौटेंगे भई साहब तुंरत बोले "बड़े भाई आपका मामला आप निबटाओ अपन तो इस घटना से सीखे कि बीवी के सामने ब्लागिंग का ज्ञान बघारना आफत को इनविटेशन देना है."
जबलपुर-ब्रिगेड के ब्रिगेडिअर्स ने मुझे  कितना साथ दिया दिया आइये देखें 
  • विजय  तिवारी  "किसलय"
  • साले साहब कहा था न कि लिमिट में रहो तनेजा जी किसी दिन पिटवा के छोडेंगे अब अपने तुम भोगो !
  • दिव्य नर्मदा
  • भई मुकुल जी नवगीत की मौज में डूब जाइए 
  • उड़न  तश्तरी 
  • ठीक है, इग्नोर करो ! सब ठीक हो जाएगा 
  • लाल और बवाल (जुगलबन्दी)
  • अभी आपकी दशा पर मर्सिया लिखे देतें हैं...
  • दीपक  'मशाल'
  • ऐसी मशालें भारत की हर नारी के हाथ हो तो तय है देश के सारे पति दुनिया के सबसे आदर्श पति का दर्जा पाएंगे 
  • शरद कोकास
  • भई,मुकुल आप इस मसले को तब तक गर्म रखिये जब तक मैं अपनी जनकपुरी नहीं आ जाता सूना है शरद जी अगले साल मार्च-अप्रेल में आ रहे हैं जबलपुर .मेरे मित्र छोटे भाई  प्रमेन्‍द्र प्रताप सिंह जी बोले "भैया सीता मैया को लंका से वापस ला  सकता है ये हनुमान किन्तु उनसे झगडा मोल नहीं ले सकता जय श्री राम !! "
  • ताऊ  को जब हमारी दाम्पत्य जीवन की इस घटना का पता चला तो उनने कहा "सब अपना फटा सिल राए हैं तन्ने भी सिल "


13 टिप्‍पणियां:

  1. गिरीश बिल्लोरे जी आप पर भी सर्दी अपना रंग दिखा रही है:) क्या सुंदर सुंदर चित्र लगाते है अपने ब्लांग पर ओर अब सीधे साडी परआ गये...... राम राम

    उत्तर देंहटाएं
  2. चिंता न करें आप अकेले न होंगे .. राजीव जी की मेहरबानी से आज और पांच ब्‍लागर भाइयों के उपर भी गाज गिरनेवाली है .. आपका साथ देने वे पहुंचने ही वाले होंगे .. राजीव जी की मेहरबानी इसी तरह बनी रहे तो .. आगे अभी अन्‍य राशियों वाले ब्‍लागर भाई भी आपका साथ देनेवाले हैं .. इतने लोग मिलकर समस्‍या का समाधान करेंगे .. तो कोई न कोई उपाय निकल ही जाएगा !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. संगीता जी
    सच्ची अगर पांडव होंते तो बच जाते
    किंतु ठहरे ब्लागर यानि कौरव निपटेंगे
    भाई राजीव जी का इन्तज़ाम पक्का है.
    राज़ दादाजी
    इधर वो जाडा आया ही नहीं फ़िर भी
    आपको चित्र पसंद आये किंतु हमारी
    दुर्दशा पर आप ने कोई सहानुबूति न दी
    ऐसे वक्त पर बडे-बुज़ुर्गों का आशीर्वाद मिले तो
    बच जाउंगा
    राम राम

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपको अपनी पडी है इन सब त्रासदियो से मै भी तो गुजर चुका हूँ. भाई मै भी तो राजीव का सताया हुआ हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  5. हम तो यही कहेंगे:

    आपका मामला आप निबटाओ ..हम चले!! :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. अब इसमें हम भला का कर सकत हैँ?..आप खुदहै तो कहे थे कि एक ठौ बढिया सी हिरोईनवा के साथ हमको बाँध दियो...सो...बाँध दिए..
    अऊर आपन करम है करना...फल की चिंता तो आप खुदहै ही करो...
    हम तो चले...राम-राम

    उत्तर देंहटाएं
  7. मुकुल भाई, जब पोस्टरवा ही गदरवा का है तो ऊ मा टाँग फसईबा तौ गदरबा हुइबै ना करी। अब साल्यूसन इहै है के ई राजीव भैया के अमरीशवा बनाय के इनका हैण्ड पम्प उखड़वाब तौ कछु बात बनै। है के नाही।

    उत्तर देंहटाएं
  8. ऐसा सुंदर फ़ोटो लगा दिये हैं भैया कि हम तो ताई के लठ्ठ के डर से पूरा पोस्ट भी नही बांच सके और फ़ोटो सेव कर लिये हैं बाद मे फ़ुरसत से निहारेंगे.:) वैसे सब अपनी अपनी ही निपटते हैं.:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  9. ये तो कमाल हो गया, हम तो आपके साथ :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. भैये!
    घर की बाहर क्यों ला रहा है?
    नित्य प्रातः स्व. गोपाल प्रसाद व्यास जी की कविता 'पत्नी को परमेश्वर मानो' का पथ सस्वर ३ बार कर ले, संकट टल जायेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  11. arre kya mst fotu hai re bhai mjaiich aa gaya.ekdm raapchik fotu.rajiv ji! hmko bhii bandh do n hmare krishn ke sath.schchi goswami ji handpump ukhad kr nhi bolenge.....'ssale rajivji aap yahan kaise?'

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं